virus full form

Virus क्या होता है Virus की Full Form क्या होती है इन्हे कंप्यूटर से कैसे निकाले

Computer Virus

Virus Full Form In Hindi

Virus क्या होता है और Virus की Full Form क्या होती है। ऐसे सवाल आपके मन में भी कभी न कभी आये होंगे। तभी आज आप हमारे ब्लॉग पर आये है।

अगर आप भी यह जानना चाहते है की Virus की Full Form क्या होती है तो आप इस पोस्ट को अंत तक जरूर पढ़े। क्योकि इसमें मैं आपको न केवल Virus की Full Form बताऊंगा, बल्कि आपको यह भी बताऊंगा की virus क्या होते है। Virus कितने प्रकार के होते है। Virus कंप्यूटर में कैसे आता है। यह आपके कंप्यूटर को कैसे ख़राब करते है। कंप्यूटर में Virus है या नहीं कैसे पता करे। आप इनसे कैसे बच सकते है। और आप अपने कंप्यूटर या फ़ोन से Virus को कैसे निकाल सकते है।

Virus की Full Form क्या होती है

वायरस की Full Form होती है Vital Information Resources Under Seize। अब बात करते है virus क्या होते है। Virus एक तरह का प्रोग्राम है जिसे इंसानो द्वारा कुछ कारण जैसे डेटा चोरी करने, कंप्यूटर को खराब करने व अन्य कारणों के लिए बनाया गया है।

कंप्यूटर virus भी बिलकुल बायोलॉजी virus की तरह ही होता है जैसे बायोलॉजी virus इंसान के शरीर में जा कर उसे बीमार कर देते है और फिर इंसान का शरीर धीरे धीरे काम करना बंद कर देता है उसी तरह कंप्यूटर virus भी कंप्यूटर में जा कर उसे बीमार कर देते है जिसके बाद कंप्यूटर धीरे काम करना बंद कर देता है।

Virus कितने प्रकार के होते है

Boot Sector Virus – यह virus कंप्यूटर में हार्ड डिस्क और फ्लॉपी डिस्क को नुक्सान पहुँचाता है इसका मुख्य कार्य कंप्यूटर को बूट होने से रोकना है जब आप कंप्यूटर ऑन करते है तो यह virus कंप्यूटर के ऑपरेटिंग सिस्टम को लोड होने में बाधा डालता है। अगर फिर भी कंप्यूटर ऑन हो जाये तो क्योकि यह virus हार्डडिस्क में होता है इसलिए यह कंप्यूटर के दूसरे सॉफ्टवेयर को नुक्सान पहुँचाता है।

File Enjector Virus – यह virus हार्डडिस्क में .exe फाइल को नुक्सान पहुँचाता है इसे बनाया ही इसलिए जाता है जिससे हार्डडिस्क में उपलब्ध फाइल को करप्ट किया जा सके।

Macro Virus – जैसा इसका नाम है वैसे ही इसके काम भी है Macro Virus खासतौर से microsoft office के फाइल को ही नुक्सान पहुँचाता है।

Polymorphic Virus – यह अत्यंत खतरनाक virus है इसकी विशेषता यह है की यह बार बार पहचान बदल लेता है इसे पकड़ पाना बेहद मुश्किल है कोई सामान्य एंटीवायरस इसे कभी पहचान नहीं पाता है क्योकि हर बार यह अपना रूप बदल लेता है।

Resident Virus – यह virus दो भागो में बंटा हुआ है फ़ास्ट इंफेक्टर और स्लो इंफेक्टर। फ़ास्ट इंफेक्टर में यह कंप्यूटर को जल्दी से जल्दी नुकसान पहुँचाने की कोशिश करता है जबकि स्लो इंफेक्टर धीरे धीरे अपना काम शुरू करता है। दोस्तों फ़ास्ट इंफेक्टर को तो antivirus ढूंढ लेता है लेकिन स्लो इंफेक्टर को कई बार antivirus ढूँढ नहीं पाता है।

Overwrite Virus – यह virus किसी फाइल को डिलीट नहीं करता है लेकिन यह फाइल को करप्ट कर देता है। इस virus को फाइल से निकला नहीं जा सकता है इसे निकालने का केवल एक ही तरीका है की उस फाइल को डिलीट कर दिया जाए। यह virus e-mail के द्वारा सिस्टम में घुसते है।

Partition Table Virus – यह virus कंप्यूटर के पार्टीशन को नुक्सान पहुँचता है लेकिन यह virus हार्डडिस्क के डाटा को किसी तरह का नुक्सान नहीं पहुँचाता है। यह virus कंप्यूटर में ram की क्षमता को भी कम करता है।

Virus Computer में कैसे आता है

कंप्यूटर में virus दो प्रकार से आता है एक ऑनलाइन और दूसरा ऑफलाइन। ऑनलाइन कंप्यूटर में virus तब आता है जब आप कोई uknown वेबसाइट अपने कंप्यूटर खोलते है तब उस वेबसाइट से आपके कंप्यूटर में virus आ जाता है। इसके अलावा अगर आपने अपने कंप्यूटर में कोई पायरेटेड सॉफ्टवेयर डाउनलोड कर लिया हो। तो सॉफ्टवेयर इनस्टॉल करते समय वह virus आपकी हार्डडिस्क में आ जाता है। इसके अलावा e-mail में अटेचमेंट के द्वारा भी virus आ जाता है।

ऑफलाइन virus आपके कंप्यूटर में usb के द्वारा आ सकता है। या फिर dvd के द्वारा भी virus आ सकता है या कंप्यूटर sharing के द्वारा भी virus आ सकता है।

Computer में Virus है या नहीं कैसे पता करे

  • अगर आपका कंप्यूटर अचानक से बोहोत slow हो जाए या बोहोत ज्यादा हैंग करने लगे तो इसका मतलब है की आपके कंप्यूटर में virus है।
  • इसके अलावा अगर आपकी कोई document फाइल करप्ट हो जाए।
  • अगर आपके कंप्यूटर में कोई अनचाह फोल्डर अपने आप बन जाए और आपके बार बार डिलीट करने पर भी वह फोल्डर डिलीट न हो।
  • अगर आपका कंप्यूटर boot न हो या फिर boot होने में कुछ ज्यादा ही समय लगा रहा हो।
  • अगर आपके कंप्यूटर में किसी प्रकार का कोई error आ रहा हो।

अगर आपके कंप्यूटर में भी इसी तरह की कोई दिक्कत आ रही हो तो इसका मतलब है की आपके कंप्यूटर में virus है।

Virus से बचने के उपाय

  • सबसे पहले तो एक paid antivirus अपने कंप्यूटर में इनस्टॉल करे। मैंने paid इसलिए कहा है क्योकि फ्री के antivirus इतने ठीक से काम नहीं करते है। तो आप Quickheal Total Security Antivirus ले सकते है या अगर आप फ्री antivirus चाहते है तो आप Kaspersky का antivirus इनस्टॉल कर सकते है। आपको इसकी वेबसाइट पर रजिस्टर करना होगा। उसके बाद आपको इसकी लाइसेंस key मिलेगी। जिसके बाद आप इसे एक साल तक फ्री में इस्तेमाल कर सकते है।
  • इसके अलावा आप पायरेटेड सॉफ्टवेयर या गेम किसी भी unknown वेबसाइट से डाउनलोड करने से बचे। मैं यह नहीं कह रहा हूँ की सभी पायरेटेड कंटेंट में virus होता है लेकिन हां crack software और game में virus होने की संभावना होती है।
  • अगर आपके कंप्यूटर में antivirus नहीं है तो किसी भी pendrive या memory card को अपने कंप्यूटर में लगाने से पहले यह सुनिश्चित कर ले की उसमे virus न हो।
  • अगर आप chrome या uc browser इस्तेमाल करते है तो आपने अक्सर ऐसा देखा होगा की जब आप कोई unknown वेबसाइट को ओपन करते है तो वहाँ पर एक warning आती है की आपके फ़ोन में virus है और यह आपके फ़ोन को  खराब कर सकता है और जल्दी इस फ़ोन cleaner एप्लीकेशन को इनस्टॉल करे नहीं तो आपका फ़ोन खराब हो सकता है और ऐसे में जिन लोगो को इस बात की समझ नहीं होती है वह उस एप्लीकेशन को इनस्टॉल कर लेते है और ऐसे में उस एप्लीकेशन के द्वारा फ़ोन में trojan virus आ जाता है।
  • इसके अलावा अगर आपको कोई स्पैमी मेल अनजान आईडी से आती है तो आप उसे ओपन न करे। जैसे कई बार मेल आती है की आप आईफोन जीत गए है अपनी डिटेल्स भर कर आईफोन क्लेम करे। या आप लॉटरी जीत गए है वगरैह वगरैह मेल को न खोले और खासतौर से उसकी अटैचमेंट को भी डाउनलोड न करे।

Computer से Virus को कैसे निकाले

दोस्तों अगर आपके कंप्यूटर में virus आ गया है तो सबसे पहले आपको अपने कंप्यूटर को safe mode में ऑन करना है। अब अगर आपको नहीं पता है की कंप्यूटर में safe mode ऑन कैसे करना है तो मैं आपको बता दू की जब आप अपने कंप्यूटर को ऑन  करते है तो logo आने से पहले आपको F8 key प्रेस करनी है। उसके बाद आपका कम्यूटर में safe mode में ऑन हो जाएगा। यह तरीका सिर्फ window 7 तक ही काम करेगा।

अगर आप window 8 या 10 यूज़ करते है तो इसके लिए आपको स्टार्ट मेनू में जाना है। इसके बाद पावर ऑप्शन पर क्लिक करना है। इसके बाद आपके सामने तीन ऑप्शन आएंगे shut down, restart, sleep, अब आपको shift बटन के साथ restart पर क्लिक करना है। इसके बाद आपके सामने troubleshoot विंडो का ऑप्शन आएगा। इसके बाद आपको troubleshoot पर क्लिक करना है फिर advance ऑप्शन पर क्लिक करना है। इसके बाद आपको startup settings पर क्लिक करना है। इसके बाद आपका कंप्यूटर safe mode में ओपन हो जाएगा।

कंप्यूटर safe mode में ऑन होने बाद आपको सबसे पहले control panel में जा कर उस सॉफ्टवेयर या गेम को डिलीट करना है जिससे आपके कंप्यूटर में virus आया है। इसके साथ आपको एक अच्छा antivirus इनस्टॉल करके अपने कंप्यूटर को scan करना है अब बाकि का काम antivirus अपने आप कर लेगा।

Phone से Virus को कैसे निकाले

आज स्मार्टफोन फ़ोन यूज़र्स की संख्या बोहोत बढ़ती जा रही है और हर साल यह आँकड़ा बढ़ता जा रहा है इसलिए अब virus का खतरा सिर्फ कंप्यूटर में ही नहीं है। अब हैकर्स अपना निशाना स्मार्टफोन यूजर को भी बना रहे है इसलिए अब आपको थोड़ा सावधान होने की भी जरुरत है।

अब मैं आपको बताता हूँ अगर आपके स्मार्टफोन में किसी भी तरह की virus आ गया है तो आप उसे कैसे निकल सकते है। सबसे पहले आपको यह देखना होगा की आपके फ़ोन में virus आया कैसे अगर आपने किसी थर्ड पार्टी ऐप को गूगल से किसी unknown वेबसाइट से इनस्टॉल किया है तो आपको उस ऐप को अपने फ़ोन से रिमूव करना होगा। लेकिन इसमें एक दिक्कत है की आप उस virus से लैस ऐप को आसानी से रिमूव नहीं कर सकते है जैसे आप उसे अनइंस्टॉल करेंगे। तो अनइंस्टॉल नहीं होगा।

इसके लिए आपको अपने फ़ोन को safe mode में ऑन करना होगा। तो इसके लिए आपको फ़ोन की पावर key को प्रेस करके फ़ोन को ऑफ करना है फिर अपने फ़ोन को safe mode में ओपन करना है। इसके बाद आपको App Manager में जा कर उस virus वाले ऐप को अनइंस्टॉल करना है।

कुछ लोग अपने फ़ोन को रिसेट कर देते है। इससे virus तो निकल जाता है लेकिन इससे आपके फ़ोन का डेटा भी डिलीट हो जाता है लेकिन इस प्रोसेस से आपका डेटा महफूज़ रहेगा।

यह भी पढ़े

Bios क्या होता है Bios की Full Form क्या होती है

Spam क्या होता है कैसे होता है और इससे कैसे बचे

DP का फुल फॉर्म क्या होता है? DP Ka Full Form Kya Hota Ha? Dp Full Form

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *