sms full form

SMS Full Form क्या होती है? SMS क्या होता है? और कैसे काम करता है?

Technology Explained

क्या आप जानते है की SMS Full Form क्या होती है या sms क्या होता है या sms काम कैसे करता है? अगर नहीं तो आप इस आर्टिकल को जरूर पढ़े। इसमें आपको एसएमएस के बारे में डिटेल में सारी जानकारी मिलेगी।

आज के आधुनिक समय में हम टेक्नोलॉजी में दिन ब दिन आगे बढ़ते जा रहे है। जब पहले whatsapp, facebook, या बाकी सोशल मीडिया नहीं थे तब हम मैसेज को एसएमएस के द्वारा भेजते थे। यहाँ तक की चैटिंग के लिए भी एसएमएस पैक का recharge कराते थे लेकिन आज हमारे फ़ोन में व्हाट्सप्प है तो पहले के मुकाबले हम आज एसएमएस का इस्तेमाल नहीं करते है लेकिन आज भी 20 billion से ज्यादा sms हर रोज भेजे जाते है।

आप भले ही आज whatsapp का इस्तेमाल करते हो। लेकिन आज भी कंपनी आपको कोई भी message sms के द्वारा ही भेजती है। फिर चाहे वह आपका नेटवर्क ऑपरेटर हो, बैंक हो या इंशोरेंस कंपनी हो। सभी अपनी service की information एसएमएस के द्वारा बताते है।

तो आज मैं आपको sms की full form बताऊँगा साथ ही आपको यह भी बताऊँगा की sms क्या होता है sms काम कैसे करता है और sms के फायदे और नुक्सान क्या है? इसके साथ आपको sms के कुछ मजेदार तथ्य भी बताऊँगा।

SMS की Full Form क्या होती है?

SMS Full Form होती है “Short Message Service” जैसा इसका नाम है वैसे ही इसका काम भी भी है। sms के द्वारा आप अपने छोटे छोटे संदेशो को किसी को भी भेज सकते हो। हिंदी में इसे लघु संदेश सेवा भी कहते है। यह लघु संदेशो को एक जगह से दूसरी जगह पहुंचने की एक सेवा है।

SMS क्या होता है?

अब sms की full form तो आप समझ गए। अब बात करते है की यह एसएमएस क्या होता है।एक लघु सन्देश सेवा है जिसमें यह आपके मैसेज को एक जगह से दूसरी जगह वायरलेस तरीके से पहुंचाने में मदद करता है। SMS का प्रयोग करके आप घर बैठे दुनियाभर में अपने किसी भी दोस्त को कोई भी मैसेज एक second में भेज सकते है। आमतौर पर साधारण यूजर आज के समय में मैसेज का प्रयोग ज़्यदातर किसी को विश करने के लिए ही करता है।

SMS काम कैसे करता है?

SMS काम कैसे करता है इसे समझने के लिए आपको वापस आज से कई साल पीछे जाना होगा। आज से कई साल पहले जब आप कोई चिट्टी किसी को लिख कर भेजते थे तो आपको postman का सहारा लेना होता था। आप अपने सन्देश को एक कागज़ पर लिखते थे उसके बाद आप उसे एक लिफाफे में डालकर पोस्ट ऑफिस में जमा करते थे या फिर पत्र पात्र यानी लेटर बॉक्स में डाल देते थे।

इसके बाद आपका वह लिफाफा postman लेता था और वह पोस्टमैन उस लिफाफे पर लिखे एड्रेस पर जा कर उसे आपका वह लिफाफा दे देता था तो इस तरह आपके और उस प्राप्त करने वाले के बीच में postman ने सन्देश का आदान प्रदान किया।

ठीक इसी तरह sms center भी काम करता है। दोस्तों मैं आपको बता दू की टेलीकॉम कंपनी का हर स्टेट में एसएमएस सेंटर नंबर अलग होता है जैसे मान लीजिये आप jio का नंबर इस्तेमाल करते हो तो jio का एसएमएस सेंटर नंबर दिल्ली में अलग है और मुंबई में अलग है।

जब आप कोई मैसेज sms के द्वारा किसी यूजर को भेजते है तो वह मैसेज सबसे पहले आपके टेलीकॉम कंपनी के sms center में जाता है उसके बाद वह यह चेक करता है जिसको उस मैसेज को भेजना है वह यूजर अभी active है या नहीं अगर वह active हुआ तो मैसेज उसी समय उस यूजर के पास पहुंच जाएगा। अगर वह यूजर नेटवर्क एरिया के बाहर हुआ तो वह मैसेज उस यूजर के पास नहीं जाएगा। बल्कि sms center में सेव रहेगा। और जैसे ही वह यूजर नेटवर्क एरिया में आएगा वह मैसेज उसके पास पहुंच जाएगा।

आपने कई बार देखा होगा। की जब आप कई दिनों बाद अपने फ़ोन ऑन करते है या फिर आप एक ऐसी जगह में काफी समय से होते है जहाँ पर नेटवर्क नहीं हो और फिर काफी समय बाद आप network coverage में आते है उसके बाद आपके पास एक साथ कई सारे मैसेज एक एक करके आने लगते है। तो यह इसीलिए ही होता है क्योकि वह सारे मैसेज sms center में इकट्ठे हो जाते है और आपके एक्टिव होने पर एक साथ सारे मैसेज आपके पास पहुंच जाते है।

अगर मैं आपको तकनीकी भाषा में बताऊं। तो आपका फ़ोन हमेशा अपने किसी भी पास के telecom tower से जुड़ा रहता है। अब जब आप कोई मैसेज भेजते है तो आपका मैसेज उस इनफार्मेशन को रेडियो वेव के द्वारा एसएमएस सेंटर तक पहुँचाता है। इस इनफार्मेशन में चार चीज़े होती है। पहली आपके मैसेज की लम्बाई कितनी है दूसरी आप किस समय मैसेज भेज रहे है तीसरी आप किस को मैसेज भेज रहे है और चौथी की वह मैसेज क्या है।

अब आपके फ़ोन से यह सारी इनफार्मेशन रेडियो वेव के द्वारा sms center तक जाती है उसके बाद वह यह पता करता है की जिसको यह मैसेज भेजना है वह अपने पास के telecom tower से जुड़ा है की नहीं अगर वह अपने पास के टावर से जुड़ा हुआ है तो उसे मैसेज उसी समय मिल जाएगा। लेकिन अगर उसका फ़ोन स्विच ऑफ या नॉट रीचेबल हुआ तो वह मैसेज sms center में स्टोर हो जाएगा। उसके बाद जैसे ही वह यूजर एक्टिव होगा। उसके पास एसएमएस सेंटर मैसेज भेज देगा।

SMS के फायदे क्या क्या होते है?

No Internet Connection – एसएमएस का सबसे बड़ा फायदा है की इसके लिए आपको इंटरनेट की जरुरत नहीं है। अगर हम बात करे व्हाट्सप्प, फेसबुक की तो इसके लिए मैसेज भेजने वाले और मैसेज को रिसीव करने वाले दोनों के फ़ोन में internet होना जरुरी है। अगर मैसेज भेजने वाले के फ़ोन में internet नहीं है तो वह मैसेज भेज नहीं पाएगा। और अगर मैसेज receive करने वाले के फ़ोन में internet नहीं है तो वह मैसेज को रिसीव नहीं कर पाएगा।

लेकिन एसएमएस में आप बिना internet के भी एक दूसरे को मैसेज भेज और रिसीव कर सकते है।

Message Dropping – एसएमएस की एक और खासियत की आप अपनी सुविधा अनुसार कभी भी भेज सकते है जैसा आप जानते है की कालिंग एक लाइव प्रोसेस है इसमें आप कॉल करते है और अगर सामने वाला यूजर network area में हुआ तो फ़ोन लग जाता है नहीं तो फ़ोन कनेक्ट नहीं हो पता है। इसी की विपरीत आप मैसेज को छोड़ सकते है और अगर सामने वाला user active नहीं भी हुआ तो भी मैसेज एसएमएस सेंटर में सेव हो जाता है और उस यूजर के एक्टिव होने पर चला जाता है।

जैसे अगर किसी का फ़ोन मिल नहीं रहा हो तो आप उसे एक मैसेज भेज सकते है की “आपका फोन उपलब्ध नहीं है कृपया मुझे कॉल करें” और जब वह network area में आएगा उसे यह मैसेज मिलेगा तो वह तुरंत आपको फ़ोन करेगा।

Convenient – इसके अलावा एसएमएस एक सुविधाजनक स्रोत भी है। इसे आप अपनी इच्छा के अनुसार कभी भी इस्तेमाल कर सकते है जैसे अगर आप किसी को बर्थडे विश करना चाहते है और वह रात को सो गया हो तो आप उसे फ़ोन करने की जगह message कर सकते है जिससे उसकी नींद भी ख़राब न हो और जब वह सुबह सो कर उठे तो उसे आपका मैसेज भी मिल जाए।

SMS के नुक्सान क्या क्या होते है?

Word Limitation – इसमें एक नुक्सान है और वह है शब्द सीमा। SMS में आपको 160 शब्दों की सीमा मिलती है। एसएमएस में आपको 160 शब्दों के अंदर ही अपने message को लिखना होता है अगर आप इससे बड़ा message लिखते है तो वह खुद ब खुद मैसेज टूट कर अगला मैसेज 2 हो जाएगा।

Less Priority – एसएमएस में आपको कम प्राथमिकता मिलती है। आपने देखा होगा की कभी मैसेज यूजर के पास एक सेकंड में पहुँच जाता है तो कभी एक घंटे में पहुँचता है। तो ऐसा भी अक्सर होता है।

SMS Recharge – आप जानते ही होंगे की मैसेज को इस्तेमाल करने के लिए अलग से रिचार्ज करना पड़ता है और उस पैक में आपको 1000 मैसेज तक या इससे ज्यादा भी मिल सकते है। अब यह पहले तो बहुत अच्छा लगता था लेकिन जब से whatsapp, facebook और बाकी सारे सोशल मीडिया आए है तब से इनका इस्तेमाल कम हो गया। क्योकि जब आप whatsapp में बिना अलग से कोई रिचार्ज के आप अनलिमिटेड मैसेज भेज और रिसीव कर सकते है तो कोई एसएमएस का रिचार्ज क्यों कराएगा।

हालांकि आज भी दुनियाभर में sms का इस्तेमाल खूब हो रहा है क्योकि आज भी दुनियाभर में इंटरनेट पहुंच नहीं पाया है। और वैसे भी कोई भी कंपनी, ब्रांड या बैंक आपको sms के द्वारा ही information भेजते है।

SMS के मजेदार तथ्य क्या है?

  • क्या आप जानते है की 1980 के दशक की शुरुआत में मोबाइल डिवाइस में टेक्स्ट मैसेजिंग फीचर को जोड़ना शुरू किया। और सन 1984 में एसएमएस कांसेप्ट को Friedhelm Hillebrand और Bernard Ghillebaert ने फ्रेंको-जर्मन जीएसएम  में विकसित किया।
  • क्या आप जानते है की दुनिया का पहला SMS मैसेज 3 दिसम्बर 1992 को Sema Group के Neil Papworth ने यूनाइटेड किंगडम में वोडाफोन gsm नेटवर्क पर Orbitel 901 हैंडसेट से वोडाफोन के Richard Jarvis को किया था और सन्देश था “Merry Christmas”।
  • क्या आप जानते है की 1992 से 1999 तक लोग सिर्फ एक ही नेटवर्क पर मैसेज भेज सकते थे जैसे अगर आपके पास airtel का नंबर है तो आप airtel to airtel एसएमएस भेज सकते थे दूसरे नंबर जैसे vodafone पर एसएमएस नहीं भेज सकते थे लेकिन 1999 के बाद लोगो को यह सर्विस मिली की अब आप किसी भी network पर मैसेज भेज और रिसीव कर सकते है।
  • क्या आपको पता है की 2010 तक एसएमएस का सबसे ज्यादा इस्तेमाल किया गया था इसके लगभग 3.5 billion एक्टिव यूजर थे यानी 80% मोबाइल उपभोक्ता।
  • क्या आप जानते है की एसएमएस में आपको 160 word की limit मिलती है जबकि अगर आप एक एसएमएस चीन, जापान या सऊदी अरब की भाषा में लिखते है तो आपको मात्र 70 word की ही limit मिलती है।
  • क्या आप जानते है की एसएमएस का इस्तेमाल मोबाइल मार्केटिंग के लिए खूब किया जाता है। यह एक तरह की डायरेक्ट मार्किट है। 2014 में एक market research report के अनुसार दुनियाभर में एसएमएस मैसेज का बिजनेस 100 billion से भी अधिक था।

मुझे उम्मीद है की आपको sms की full form और एसएमएस पर मेरे द्वारा विस्तार से दी गयी जानकारी अच्छी लगी होगी। अगर आपका कोई भी सवाल या सुझाव हो तो आप हमे निचे कमेंट करके बता सकते है।

यह भी पढ़े

Hybrid Sim Slot क्या होता है? A to Z सारी जानकारी हिंदी में

Sim Full Form क्या होती है? Sim क्या होती है? Sim कैसे काम करती है?

WiFi Full Form क्या होती है? WiFi क्या होता है? सारी जानकारी हिंदी में

USSD Full Form क्या होती है? USSD क्या होता है? A To Z Information In Hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *