IVRS Full Form क्या होती है? IVRS क्या होता है?

IVRS क्या होता है IVRS की Full Form क्या होती है ? IVRS काम कैसे करता है यह सभी जानकारी आपको इस पोस्ट में मिलेगी। तो इस पोस्ट को अंत तक पूरा पढ़े।

दोस्तों आपने कभी न कभी कस्टमर केयर पर फ़ोन तो किया होगा। और आपने यह गौर किया होगा की जब आप फ़ोन करते है तो आपको कस्टमर केयर से एक आवाज़ आती है की हिंदी के लिए 1 दबाये to continue to english please press 1 फिर जब आप एक दबाते है तो उसके बाद अगली आवाज़ आती है की रिचार्ज के लिए 1 दबाये इंटरनेट के लिए 2 दबाये वैगरह वैगरह।

आपने कभी यह सोचा है की यह क्या होता है यह आवाज़ कहाँ से और कैसे आती है आपका तो पता नहीं लेकिन हाँ, जब मैं छोटा था तब अक्सर यह सोचता था की कही पर भी फ़ोन करो हर बार यही लड़की फ़ोन क्यों उठती है तब लगता था की लड़की की आवाज़ को रिकॉर्ड करके बार बार चला देते है।

चलिए तब तो मैं छोटा था नहीं जानता था आज जनता हूँ तो आज मैं आपको इसी विषय पर बताता हूँ की IVRS क्या होता है IVRS की full form क्या होती है और यह कैसे काम करता है तो चलिए फिर विस्तार से जानते है।

IVRS Full Form क्या होती है?

IVRS की full form होती है Interactive Voice Response System। यहाँ आप इसके नाम से ही समझ गए होंगे की Interactive voice response यह एक तरह का सिस्टम (प्रणाली) है जो वॉइस (आवाज़) पर रिस्पॉन्स (प्रतिक्रिया) करता है।

IVRS क्या होता है?

IVR एक ऐसा सिस्टम है जो आवाज़ पर प्रतिक्रिया करता है जब कई बार आप किसी कंपनी के कस्टमर केयर पर कॉल करते है तो वहाँ के सिस्टम से आवाज़ आती है की हिंदी के लिए 1 दबाये जब आप 1 दबाते है तो सिस्टम पता लगाता है की कस्टमर ने एक दबाया है इसका मतलब कस्टमर हिंदी में बात करना चाहता है।

उसके बाद मेन मेनू होता है की रिचार्ज के लिए एक दबाये, इंटरनेट के लिए 2 दबाये, कॉलर ट्यून के लिए 3 दबाये फिर जब आप 1 दबाते है तो आपको रिचार्ज का आगे की प्रक्रिया बतायी जाती है तो इस पूरी प्रक्रिया को IVRS कहा जाता है।

ivrs full form

IVRS कैसे काम करता है?

IVRS दो तरह से काम करता है एक DTMF (Dual Tone Multiple Frequency) और दूसरा Human Voice को पहचानना। कहने को तो IVR इन दोनों तरीको से काम करता है लेकिन IVRS में आज सबसे ज्यादा DTMF का ही इस्तेमाल होता है।

Human Voice

इसमें सिस्टम आपसे किसी भी काम के लिए yes या no का जवाब माँगता है जैसे आपने बैंकिंग में या किसी ईकॉमर्स में देखा होगा की transaction या आर्डर करते समय आपसे पुष्टिकरण के लिए yes और no का जवाब माँगा जाता है अगर आप yes कहते है तो उस ट्रांसक्शन को या आर्डर को पूरा कर देता है और अगर आप no कहते है तो सिस्टम आपकी ट्रांसक्शन या आर्डर को cancel कर देता है।

DTMF (Dual Tone Multiple Frequency)

DTMF मल्टीपल साउंड फ्रीक्वैंसी पर काम करता है अगर आप गौर करे तो जब आप अपने डायल पेड पर 1 दबाते है तो एक साउंड निकलता है फिर जब आप 2 दबाते है तो एक दूसरी frequency में साउंड निकलता है इसी तरह 1 से 10 तक हर key की एक अलग sound frequency होती है इसी से ही DTMF सॉफ्टवेयर यह पता लगा पाता है की आपने कोनसा बटन प्रेस किया है।

DTMF सॉफ्टवेयर में पहले से ही इन बटन के ऊपर कुछ कमांड दी हुई होती है जैसे की अगर ग्राहक 1 दबाये तो वह अपने फ़ोन में रिचार्ज कर सके, अगर ग्राहक 2 दबाये तो वह अपने फ़ोन का balance check कर सके।

DTMF सॉफ्टवेयर आपके डायलपैड के बटन की साउंड frequency को पहचानता है।

नहीं तो आप खुद सोचिये की आपने 1 बटन दबाया है या 4 यह आपको पता है सिस्टम थोड़ी देख रहा है की आपने कौनसा बटन प्रेस किया है तो उसे कैसे पता चलेगा की आपने कोनसा बटन दबाया है तो इन्ही अलग अलग sound frequency से ही यह DTMF सिस्टम पता लगाता है की आपने कोनसा बटन प्रेस किया है।

IVRS का इस्तेमाल क्यों किया जाता है?

कंपनी को प्रोफेशनल बनाने के लिए

आज मार्किट में सभी बड़ी बड़ी कंपनी IVR का इस्तेमाल करती है ऐसे में मार्किट में आयी नयी कंपनी भी IVR का इस्तेमाल करती है जिससे वह ग्राहकों को लुभा सके।

ग्राहकों के बड़े डेटाबेस को संभालने के लिए

एक बढ़ी कंपनी के साथ करोडो लोग जुड़े होते है और उन्हें प्रतिदिन कुछ न कुछ दिक्कत भी आती रहती है क्योकि किसी भी टेक्निकल चीज़ में एरर आना बहुत ही स्वाभिक है

ऐसे में वह कंपनी IVRS का इस्तेमाल करती है जैसे जिओ के पास पूरे भारतवर्ष में करोड़ो ग्राहक है और आप जानते है की जिओ के इंटरनेट में कोई न कोई दिक्कत आती रहती है ऐसे में जिओ के लिए इतने लोगो को संभालना नामुमकिन है जिओ चाह कर भी इतना स्टाफ नहीं रख सकता है।

ऐसे में जिओ IVRS का इस्तेमाल करता है जिससे वह कई लोगो को परेशानी बिना टेली ऑपरेटर के ही ठीक कर देता है अगर फिर भी कोई बड़ी दिक्कत हो तो ही कोई ह्यूमन फ़ोन रिसीव करता है।

कम खर्चे में ग्राहकों को अच्छा कस्टमर सपोर्ट देने के लिए

IVRS से कोई भी कंपनी बहुत ही कम खर्चे में अपने ग्राहकों को एक बहुत अच्छा कस्टमर सपोर्ट दे सकती है। और इससे कस्टमर को भी फायदा होता है जैसे बैंकिंग लाइन में मान लीजिये आपको अपने अकाउंट का बैलेंस चेक करना है तो आपको किसी ऑपरेटर से पूछने की जरुरत नहीं है।

अगर कस्टमर केयर पर कॉल करते है तो वहॉं पर आपसे पूछा जाएगा। की बैलेंस एंक्वेरी के लिए 1 दबाये उसके बाद आप 1 बटन प्रेस करके और अपने अकाउंट नंबर डाल कर अपने अकाउंट का बैलेंस चेक कर सकते है।

IVRS कहाँ कहाँ इस्तेमाल होता है?

Banking

बैंकिंग में IVRS का इस्तेमाल बैलेंस चेक करने, डेबिट कार्ड या क्रेडिट कार्ड की जानकारी के लिए या लोन आदि के लिए  किया जाता है।

E-commerce

ईकॉमर्स कंपनी भी IVRS का इस्तेमाल आर्डर की जानकारी के लिए, रिटर्न के लिए या किसी भी शिकायत आदि के लिए करती है। आज सभी ईकॉमर्स कंपनी जैसे अमेज़न, फ्लिपकार्ट, पेटीएम, मिंत्रा IVRS का इस्तेमाल करती है।

Online Service

ऑनलाइन सर्विस में ही IVRS का इस्तेमाल किया जाता है जब आप ऑनलाइन सर्विस जैसे वेब होस्टिंग वैगरह लेते है तो यहाँ पर भी आपको IVRS सपोर्ट मिलता है जैसे godaddy आदि।

Cable Operator

पहले इस क्षेत्र में IVR सिस्टम का इस्तेमाल नहीं किया जाता था लेकिन अब यहाँ पर भी आपको IVRS का सपोर्ट मिलता है जैसे tata sky, dish tv आदि।

Tele Communication

टेली कम्युनिकेशन में IVRS का सबसे ज्यादा इस्तेमाल किया जाता है आज सभी टेलीकम्यूनिकेशन कंपनी जैसे जिओ, एयरटेल, वोडाफोन, बीएसएनएल , आईडिया वैगरह सभी IVRS का इस्तेमाल करती है।

ऐसा नहीं है की बस यही पर ही IVRS का इस्तेमाल किया जाता है आज के समय में छोटी बड़ी सभी कंपनी IVR का इस्तेमाल कर रही है।

IVRS का इस्तेमाल करके hp gas booking करे

अपने बिजनेस में IVRS का इस्तेमाल कैसे करे?

दोस्तों अगर आपकी की भी कंपनी है और अगर आप भी अपने कस्टमर को बेहतर सपोर्ट देने के लिए IVR सिस्टम चाहते है तो आप भी बड़े आसानी से IVRS सर्विस यूज़ कर सकते है।

इंटरनेट पर अगर आप IVR hosting सर्च करेंगे तो आपको बहुत सी ऐसी कंपनी मिल जाएगी जो आपको बहुत ही कम पैसो में IVRS सर्विस देती है।

इसके अलावा आप खुद का भी IVR सिस्टम लगा सकते है लेकिन मैं ऐसा करने की आपको सलाह नहीं दूंगा। अगर आपकी बहुत बड़ी कंपनी है तभी आप खुद का IVR सिस्टम लगाए। क्योकि IVR सिस्टम लगाना काफी महंगा होता है। अगर आपका बजट ज्यादा है या आपकी कंपनी बड़ी है तभी आप इसे लगाए। अन्यथा आप इंटरनेट पर IVR hosting ले सकते है।

निष्कर्ष

मुझे उम्मीद है की आपको IVRS की Full Form, IVRS क्या होता है कैसे काम करता है अच्छे से समझ आ गया होगा। अगर आपका कोई भी सवाल या सुझाव हो तो आप हमे कमेंट करके पूछ सकते है।

यह भी पढ़े

Spam क्या होता है कैसे होता है और इससे कैसे बचे

Bios Full Form क्या होती है? Bios क्या होता है? सम्पूर्ण जानकारी

WiFi Full Form क्या होती है? WiFi क्या होता है? सम्पूर्ण जानकारी

Virus Full Form क्या होती है? Virus क्या होता है? वायरस की सारी जानकारी

Leave a comment

Content Protected
8 Shares
Tweet
Pin2
Share6
Share