GUI Full Form क्या होती है? GUI क्या होता है?

GUI की Full Form क्या होती है? GUI क्या होता है? क्या आपके मन में भी ऐसे ही सवाल आते है अगर हाँ तो इस आर्टिकल में आपको आपके सारे सवालों के जवाब मिल जाएंगे। वैसे तो इंटरनेट पर बहुत से आर्टिकल है जहाँ पर आपको GUI Full Form मिल जाएगी। लेकिन इस आर्टिकल में आपको GUI के बारे में A to Z सारी जानकारी मिलेगी।

इस आर्टिकल में मैं आपको बताऊंगा की GUI की Full Form क्या होती है? GUI क्या होता है? GUI की Full Form हिंदी में क्या होती है? GUI कैसे काम करता है? GUI के फायदे क्या होते है? GUI के नुक्सान क्या होते है? इसके साथ मैं आपको GUI की History भी बताऊंगा। तो जुड़े रहिये इस आर्टिकल के साथ।

GUI Full Form क्या होती है?

GUI की Full Form “Graphical user interface” होती है। GUI उपयोगकर्ता इंटरफ़ेस का एक रूप है जो उपयोगकर्ताओं को टेक्स्ट-आधारित उपयोगकर्ता इंटरफ़ेस, टाइप कमांड लेबल या टेक्स्ट नेविगेशन के बजाय ग्राफ़िकल आइकन और ऑडियो इंडिकेटर जैसे प्राथमिक संकेतन के माध्यम से बातचीत करने की अनुमति देता है।

GUI Full Form In Hindi

GUI की Full Form हिंदी में “चित्रात्मक उपयोगकर्ता अंतराफलक” होती है।

GUI क्या होता है?

GUI एक ऐसे इंटरफेस को संदर्भित करता है, जो graphic elements के माध्यम से कंप्यूटर और टैबलेट जैसे इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों के साथ बातचीत (interact) करने की अनुमति देता है।

यह टेक्स्ट-आधारित कमांड के बजाय, जानकारी दिखने के लिए आइकन, मेनू और अन्य ग्राफ़िकल एलिमेंट का इस्तेमाल करता है। Graphic Elements उपयोगकर्ताओं को कंप्यूटर पर कमांड देने और माउस या अन्य इनपुट डिवाइस का उपयोग करके कार्यों का चयन करने में सक्षम बनाते हैं।

GUI में कोई भी काम आमतौर पर ग्राफिकल तत्वों के प्रत्यक्ष हेरफेर के माध्यम से की जाती है। कंप्यूटर के अलावा GUI का उपयोग कई हाथ में पकड़ने वाले मोबाइल उपकरणों जैसे MP3 प्लेयर, पोर्टेबल मीडिया प्लेयर, गेमिंग डिवाइस, स्मार्टफ़ोन और छोटे घरेलू, कार्यालय और औद्योगिक नियंत्रण में किया जाता है।

GUI Components क्या है?

Pointer – यह एक Symbol है जो डिस्प्ले में दिखाई देता है जिसे आप माउस से इधर उधर करके आइकॉन पर क्लिक करते है।

Device – यह आपके पॉइंटर को यहाँ वह करने का डिवाइस होता है यह माउस, कीबोर्ड या जॉयस्टिक कुछ भी हो सकता है।

Icon – यह आपके कंप्यूटर स्क्रीन पर दिखाई देते है जिस पर क्लिक करके आप अपनी कमांड पूरी कर सकते है।

Desktop – सारा काम आपका इसकी स्क्रीन पर ही होता है आपकी कमांड और कंप्यूटर की प्रतिक्रिया सब इसी पर होती है।

GUI कैसे काम करता है?

एक GUI एक कंप्यूटर के उपयोगकर्ता को स्क्रीन पर एक पॉइंटर को चारों ओर ले जाकर और एक बटन पर क्लिक करके कंप्यूटर के साथ संवाद करने की अनुमति देता है। स्क्रीन के चारों ओर एक पॉइंटर को स्थानांतरित करने के कई तरीके हैं जैसे की mouse, trackballs, buttons, touchpads, touchscreens, joysticks और video game controllers आदि। इनमें माउस का इस्तेमाल सबसे ज्यादा होता है।

gui full form

सेंसर इस बात पर नज़र रखते हैं कि माउस कहाँ स्थानांतरित होता है और जब माउस का बटन दबाया जाता है तब इसे कंप्यूटर में प्रसारित किया जाता है जो इसे कंप्यूटर की स्क्रीन पर गति और अन्य गतिविधि में बदल देता है।

कंप्यूटर स्क्रीन पर पॉइंटर कहां है और एक बटन कैसे दबाया जाता है, इसके आधार पर कंप्यूटर अलग-अलग चीजें करता है। कंप्यूटर पर एक प्रोग्राम स्क्रीन पर पॉइंटर के स्थान, माउस के किसी भी मूवमेंट और किसी भी बटन को दबाने के लिए लगातार जाँच करता है। यह भी देखने के लिए कि वे कितनी तेजी से दबाए जाते हैं।

यह प्रोग्राम यह तय करता है कि उपयोगकर्ता इन क्रियाओं के द्वारा क्या करना चाहता है।

GUI वास्तव में उपयोगकर्ता भाषा का अनुवाद करता है जिसमें simple one-line commands और single click और मशीन भाषा या असेंबली भाषा के लिए double clicks शामिल हैं। मशीन की भाषा मशीन द्वारा समझी जाती है और इसलिए मशीन शुरू किए गए कार्य का जवाब देती है जिसका उपयोग भाषा का उपयोग करने के लिए किया जाता है और GUI के माध्यम से उपयोगकर्ता को सूचित किया जाता है।

अगर आपको अभी भी समझ नहीं आ रहा है तो इसे और आसानी से उदहारण के साथ समझते है।

उदहारण के लिए:- निचे आप कंप्यूटर स्क्रीन देख सकते है इसमें कैसे सारे सॉफ्टवेयर के icon है अब मान लीजिये कि आप गूगल क्रोम को चलाना चाहते है तो आपको बस गूगल के आइकॉन पर माउस को ले कर जाना है और डबल क्लिक करना है। इसके बाद गूगल क्रोम ओपन हो जाएगा।

gui full form

अब मान लीजिये कि आपके कंप्यूटर में GUI ही नहीं है तो फिर क्या होगा?

ऐसे में आपको कमांड प्रोम्प्ट में जाकर गूगल क्रोम टाइप करके एंटर मारना होगा। इसके बाद गूगल क्रोम ओपन हो जाएगा। अब यह थोड़ा असुविधाजनक है जिसमें आपको कोई भी सॉफ्टवेयर, ब्राउज़र या किसी भी चीज़ को खोलने के लिए आपको उसका नाम टाइप करना होगा। और वह भी बिलकुल ठीक ठीक अगर आपने गलत टाइप किया तो वह सॉफ्टवेयर नहीं खुलेगा।

OCR Full Form क्या होती है? OCR क्या होता है?

OMR Full Form क्या होती है? OMR क्या होता है?

इन सबसे निकलने के लिए, चीज़ो को आसान बनाने के लिए और उपयोगकर्ता का अनुभव बेहतर करने के लिए ही GUI का उपयोग किया जाता है इसमें आपको मात्र आइकॉन पर क्लिक करना है और आप जो करना चाहते है आप उसे ग्राफ़िक के द्वारा कर सकते है।

GUI के फायदे क्या है?

Simplicity – GUI ने किसी भी काम को आसान और सरल बना दिया है। GUI ने कंप्यूटर को इतना आसान बना दिया है कि बिना ज्ञान प्राप्त करे भी कंप्यूटर में बुनियादी काम को किया जा सकता है।

Visually Appealing – GUI से कंप्यूटर स्क्रीन दिखने में ज्यादा आकर्षक लगती है। वही बिना GUI के स्क्रीन बहुत साधारण और मुश्किल भरी लगती है। कंप्यूटर से प्रत्येक प्रतिक्रिया को जीयूआई के माध्यम से देखा जाता है।

Communication through GUI – कंप्यूटर से प्रत्येक प्रतिक्रिया को GUI के माध्यम से देखा जाता है।

Easy to learn – GUI की मदद से कोई भी सॉफ्टवेयर या ऑपरेटिंग सिस्टम सीखना आसान हो होता है। उदाहरण के लिए, यदि कोई उपयोगकर्ता बिना इंटरफ़ेस वाले कंप्यूटर का उपयोग करना शुरू करता है, तो उसे प्रत्येक कार्य को करने के लिए कंप्यूटर को कमांड देना होगा। एक तरह से, उपयोगकर्ता को किसी प्रकार का प्रोग्रामिंग ज्ञान होना आवश्यक है जबकि GUI में ऐसा नहीं है।

GUI के नुक्सान क्या है?

Pre-programmed – इसमें केवल आप वह ही कर सकते है जो किसी डेवलपर द्वारा पहले से ही प्रोग्राम बनाया हो। इसमें आप कुछ नया करने कि सोच नहीं सकते है।

Power Consuming – GUI वाला सिस्टम में अधिक बिजली की खपत होती है।

Slow – यह साधारण कमांड-आधारित इंटरफेस की तुलना में थोड़ा धीमा है।

More Memory Space – यह साधारण कमांड आधारित इंटरफ़ेस से अधिक जगह घेरता है।

Difficult for Programmer – GUI उपभोक्ता के लिए सरल हो सकता है, लेकिन यह उन प्रोग्रामर के लिए सरल नहीं है जिन्हें प्रत्येक फ़ंक्शन को डिज़ाइन करना और कार्यान्वित करना है और अमूर्तता भी लागू करना है ताकि उपयोगकर्ता GUI का लाभ का उठा सके।

GUI की History क्या है?

Ivan Sutherland ने 1963 में Sketchpad विकसित किया, जिसे व्यापक रूप से पहले graphical computer-aided design program के रूप में रखा गया था। यह समन्वित ग्राफिक्स के साथ वास्तविक समय में इंजीनियरिंग चित्र में वस्तुओं को बनाने और हेरफेर करने के लिए एक हल्के पेन का उपयोग करता था।

1960 के दशक में Douglas Engelbart के नेतृत्व में स्टैनफोर्ड रिसर्च इंस्टीट्यूट के शोधकर्ताओं ने On-Line System विकसित किया, जिसमें एक तत्कालीन नए उपकरण Mouse के साथ हेरफेर किए गए पाठ-आधारित Hyperlink का उपयोग किया गया था।

1970 के दशक में Engelbart के विचारों को और अधिक परिष्कृत किया गया और Xerox PARC और विशेष रूप से Alan Kay के शोधकर्ताओं द्वारा ग्राफिक्स के लिए विस्तारित किया गया। जो पाठ-आधारित hyperlink से आगे निकल गए और सन 1973 में जारी Xerox Alto computer पर चलने वाली Smalltalk programming भाषा के लिए मुख्य इंटरफ़ेस के रूप में GUI का उपयोग किया।

Xerox PARC उपयोगकर्ता इंटरफ़ेस में ग्राफ़िकल तत्वों जैसे windows, menus, radio buttons, और checkboxes शामिल थे। आइकन की अवधारणा को बाद में David Canfield Smith द्वारा पेश किया गया था, जिन्होंने इस विषय पर Kay के मार्गदर्शन में एक थीसिस लिखी थी।

PARC उपयोगकर्ता इंटरफ़ेस एक Keyboard के साथ एक पॉइंटिंग डिवाइस नियुक्त करता है। इन पहलुओं को वैकल्पिक शब्द और windows, icons, menus, pointing device के लिए संक्षिप्त रूप का उपयोग करके जोर दिया जा सकता है।

इस प्रयास का समापन 1973 के Xerox Alto में हुआ, जो GUI वाला पहला कंप्यूटर था, हालाँकि यह प्रणाली कभी व्यावसायिक उत्पादन तक नहीं पहुँची थी।

GUI के साथ पहला व्यावसायिक रूप से उपलब्ध कंप्यूटर 1979 PERQ workstation था, जिसे Three Rivers Computer Corporation द्वारा निर्मित किया गया था। इसका डिज़ाइन Xerox PARC के काम से काफी प्रभावित था।

इसके बाद 1981 में, Xerox ने अंततः एक नई और उन्नत प्रणाली के रूप में Alto का व्यवसायीकरण किया – Xerox 8010 सूचना प्रणाली – जिसे आमतौर पर Xerox Star के रूप में जाना जाता है।

gui full form

इन प्रारंभिक प्रणालियों ने कई अन्य GUI प्रयासों को प्रेरित किया। जिसमें Symbolics और अन्य निर्माताओं द्वारा Lisp मशीन सहित, Apple Lisa जिसने 1983 में menu bar और विंडो नियंत्रण की अवधारणा प्रस्तुत की, 1984 में Apple Macintosh 128K और 1985 में डिजिटल रिसर्च के GEM, और कमोडोर Amiga के साथ Atari ST शामिल है।

इसके बाद 1983 में Visi On को IBM PC compatible कंप्यूटरों के लिए रिलीज़ किया गया था, लेकिन इसकी उच्च हार्डवेयर मांगों के कारण यह कभी लोकप्रिय नहीं हुआ। फिर भी, यह माइक्रोसॉफ्ट विंडोज के समकालीन विकास पर एक महत्वपूर्ण प्रभाव था।

IBM Full Form क्या होती है?

Apple, Digital Research, IBM और Microsoft ने उत्पादों को विकसित करने के लिए Xerox के कई विचारों का उपयोग किया, और IBM के सामान्य उपयोगकर्ता एक्सेस विनिर्देशों ने Microsoft Windows, IBM OS / 2 प्रस्तुति प्रबंधक और Unix Motif toolkit और window manager में उपयोग किए जाने वाले उपयोगकर्ता इंटरफेस का आधार बनाया।

1980 के दशक की शुरुआत में GUI एक गर्म विषय था। Apple Lisa को 1983 में जारी किया गया था, और DOS ऑपरेटिंग सिस्टम के लिए विभिन्न विंडो सिस्टम मौजूद थे।

इसके बाद विंडोज 95, एक व्यापक विपणन अभियान के साथ, लॉन्च के समय बाज़ार में एक बड़ी सफलता थी और जल्द ही सबसे लोकप्रिय डेस्कटॉप ऑपरेटिंग सिस्टम बन गया।

निष्कर्ष

मुझे उम्मीद है की आपको GUI Full Form क्या होती है पर लिखा यह आर्टिकल अच्छा लगा होगा। अगर आपको यह आर्टिकल अच्छा लगा हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करे। और अगर आपको GUI से संबधित कोई भी सवाल हो तो आप हमे निचे कमेंट करके पूछ सकते है।

यह भी पढ़े

CUI Full Form क्या होती है? CUI क्या होता है?

AMOLED Full Form क्या होती है? AMOLED क्या होता है?

OLED Full Form क्या होती है? OLED क्या होता है?

Leave a comment

Content Protected
1 Shares
Tweet
Pin1
Share
Share