Encryption meaning in hindi

Encryption क्या होता है Encryption कैसे काम करता है

Computer

Encryption क्या होता है Encryption कैसे काम करता है?

Encryption meaning in hindi, एन्क्रिप्शन क्या होता है एन्क्रिप्शन काम कैसे करता है एन्क्रिप्शन के फायदे क्या क्या है और एन्क्रिप्शन के नुक्सान क्या है यह सभी जानकारी के लिए इस आर्टिकल को अंत तक पूरा पढ़े।

Encryption meaning in hindi

एन्क्रिप्शन एक ऐसी प्रक्रिया है जिससे आप अपने डाटा को सुरक्षित कर सकते है?

Encryption क्या होता है?

एन्क्रिप्शन एक ऐसी प्रक्रिया है जिसमे आप अपने डाटा को सुरक्षित कर सकते है। एन्क्रिप्शन कोई नई चीज़ नहीं है इसका इस्तेमाल तो राजा महाराजा के समय से होता आ रहा है उस समय उनके पास मोबाइल फ़ोन या व्हाट्सप्प तो होता नहीं था जिससे वह अपने सन्देश एक जगह से दूसरी जगह पहुंचाते हो।

उस समय गुप्त संदेश को संदेशवाहक के द्वारा पहुंचाया जाता था लेकिन यह डर तब भी था की कही रास्ते में इस सन्देश को कोई पढ़ न ले। इसलिए उस समय भी एन्क्रिप्शन का यूज होता था तब उनका अपना तरीका था सन्देश एन्क्रिप्ट करने का, आज टेक्नोलॉजी काफी बढ़ गयी है तो आज हम डिजिटल एन्क्रिप्शन का इस्तेमाल करते है।

Encryption meaning in hindi

Encryption कैसे काम करता है?

एन्क्रिप्शन में डाटा को पूरी तरह से बदल दिया जाता है। एन्क्रिप्शन में सॉफ्टवेयर डाटा को मशीनी भाषा में बदल देता है और यह सब वह एक key के तहत करता है जिसके पास वह key होती है केवल वह ही इस डाटा को एक्सेस कर सकता है।

उदाहरण के लिए मैं एक मैसेज अपने दोस्त को भेजना चाहता हूँ और मैं चाहता हूँ की वह मैसेज उसके अलावा और कोई न पढ़े और अगर पढ़े तो न समझे। अब मान लीजिये मेरा मैसेज यह है “Encryption meaning in hindi” अब में इस मैसेज को सॉफ्टवेयर के द्वारा एन्क्रिप्ट करता हूँ एन्क्रिप्ट करने के बाद मैसेज बन गया यह 51432516209151413511491497914 891449

अब यह मैसेज किसी और को मिल भी गया तो वह इसे पढ़ नहीं पाएगा। इसको पढ़ने की एक key है और वह key है Alphabet = Number जैसे A = 1 , B = 2 , C = 3 इस तरह से जब आप इसे डिक्रिप्ट करते है तो मैसेज बनता है Encryption meaning in hindi । इस तरह एन्क्रिप्शन काम करता है।

इसका मतलब यह नहीं है की सभी एन्क्रिप्ट फाइल की key यही होती है या एन्क्रिप्शन बस ऐसे ही होता है मैंने यहाँ आपको केवल समझाने के लिए उदाहरण दिया है असल में एन्क्रिप्शन का अल्गोरिथम बहुत मुश्किल होता है जिसे कई बार हैकर भी नहीं समझ पाते है।

Public key Encryption कैसे काम करता है?

व्हाट्सअप, फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम लगभग सभी जगह पब्लिक key एन्क्रिप्शन ही काम में लिया जाता है क्योकि यह बहुत सुरक्षित प्रक्रिया है। इससे आपका डाटा 99 प्रतिशत तक सुरक्षित रहता है बाकी हैकर्स का कुछ कह नहीं सकते क्योकि टेक्नोलॉजी के मामले में नामुमकिन तो कुछ भी नहीं है।

पब्लिक key एन्क्रिप्शन में हर एक यूज़र के पास 2 key होती है एक पब्लिक key होती है जो सबके पास होती है और एक प्राइवेट key होती है जो सिर्फ आपके पास होती है। पब्लिक key सबके पास एक ही होती है और प्राइवेट key सबकी अलग अलग होती है।

अगर आप यह सोचते है की key क्या होती है तो मैं आपको बता दू की key में उस मैसेज को जिसे एन्क्रिप्ट किया गया है उसको डिक्रिप्ट करने का फार्मूला होता है।

सबसे पहले आप अपने दिमाग में एक बात समझ लीजिये की जब मैसेज पब्लिक key से एन्क्रिप्ट होता है तो वह प्राइवेट key से डिक्रिप्ट होता है और जब प्राइवेट key से एन्क्रिप्ट होता है तो फिर वह पब्लिक key से डिक्रिप्ट होता है।

अब जब आप अपने दोस्त को मैसेज भेजते है तो होता क्या है की आपका मैसेज पब्लिक key से एन्क्रिप्ट होता है और जब आपके दोस्त के पास वह मैसेज पहुँचता तो फिर आपके दोस्त की प्राइवेट key से मैसेज डिक्रिप्ट होता है। मतलब जब आपने मैसेज को पब्लिक key से लॉक कर दिया। तो फिर वह मैसेज सिर्फ आपके दोस्त की प्राइवेट key से ही डिक्रिप्ट होगा।

अब इसमें भी एक दिक्कत है की आपके दोस्त को कैसे पता चलेगा की आपने ही उसे यह मैसेज भेजा है तो इसके लिए होता क्या है जब आप अपने दोस्त को मैसेज भेजते है तो वह मैसेज सबसे पहले पब्लिक key से एन्क्रिप्ट होता है फिर उसके बाद दूसरी बार आपकी प्राइवेट key से एन्क्रिप्ट होता है।

अब जब आपका दोस्त उस मैसेज को रिसीव करता है तो वह मैसेज सबसे पहले पब्लिक key से डिक्रिप्ट होता है फिर उसके बाद उस यूज़र की प्राइवेट key से डिक्रिप्ट होता है।

पब्लिक key एन्क्रिप्शन ऐसे ही काम करता है आपने व्हाट्सप्प पर एन्ड टू एन्ड एन्क्रिप्शन का ऑप्शन भी देखा होगा। वह भी ऐसे ही काम करते लगभग सभी नेटवर्किंग साइट्स ऐसे ही काम करती है।

Encryption के फायदे क्या है?

एन्क्रिप्शन के फायदे ही फायदे है क्योकि यह आपके डाटा को सुरक्षित रखता है तो चलिए इन फायदों के बारे में बात करते है।

फ़ोन को Encrypt करने के फायदे

अगर आप अपने फ़ोन को एन्क्रिप्ट कर लेते है तो इससे आपका फ़ोन पूरी तरह से सुरक्षित हो जाएगा। इसके बाद आपको कोई और सिक्योरिटी करने की जरुरत नहीं है।

फ़ोन एन्क्रिप्ट होने के बाद अगर आपका फ़ोन चोरी हो जाता है तो चोर आपके डाटा को ओपन नहीं कर पाएगा। क्योकि डाटा बिना key के डिक्रिप्ट नहीं हो सकता है।

फ़ोन को एन्क्रिप्ट करने के बाद आपको ransomware वायरस से भी डरने की जरुरत नहीं है अगर हैकर आपके फ़ोन को हैक भी कर लेता है तब भी वह आपके डाटा को डिक्रिप्ट नहीं कर सकता है।

मेमोरी कार्ड को Encrypt करने के फायदे

मेमोरी कार्ड को एन्क्रिप्ट करने का सबसे बड़ा फायदा है की इससे आपके मोमोरी कार्ड का डाटा पूरी तरह से सुरक्षित हो जाएगा।

अगर कोई आपका मेमोरी कार्ड आपके फ़ोन से निकाल भी ले तोभी वह आपके डाटा को खोल नहीं पाएगा।

व्हाट्सप्प एन्ड टू एन्ड एन्क्रिप्शन के फायदे

व्हाट्सप्प के एन्ड टू एन्ड एन्क्रिप्शन का सबसे बड़ा फायदा है गोपनीयता, आप में से हर कोई यह चाहता है की आपके मैसेज सिर्फ वही इंसान पढ़े जिसे आप मैसेज भजे रहे है और बीच में कोई दूसरा इसे न पढ़े। एन्ड टू एन्ड एन्क्रिप्शन में आपका भेजा हुआ मैसेज बीच में और कोई भी नहीं पढ़ सकता है यहाँ तक की खुद व्हाट्सप्प का मालिक या  एम्प्लॉय भी नहीं पढ़ सकते है।

Encryption के नुक्सान क्या होते है?

जैसा आप जानते ही है की किसी भी चीज़ का अगर फायदा होता है तो उसका नुक्सान भी होता है तो अब हम बात करते है एन्क्रिप्शन के नुक्सान कर बारे में।

फ़ोन को एन्क्रिप्ट करने के नुक्सान

फ़ोन एन्क्रिप्ट करने का जो सबसे बड़ा नुक्सान है वह है की अगर आप अपनी यूनिक key को भूल गए तो फ़ोन को डिक्रिप्ट करने का या डाटा रिकवर करने का कोई रास्ता नहीं है। अगर आप यूनिक key भूल गए तो आप अपने डाटा से हाथ धो बैठ सकते हो।

फ़ोन को डिक्रिप्ट करने का सबसे बड़ा नुक्सान है की इससे आपका फ़ोन स्लो हो जाता है और वह आप तो क्या कोई भी नहीं चाहेगा।

इसका एक और नुक्सान है की अगर आप अपने फ़ोन को रिसेट मारते है तो आपको दुबारा से अपने फ़ोन को एन्क्रिप्ट करना होगा।

मेमोरी कार्ड को एन्क्रिप्ट करने के नुक्सान

मेमोरी कार्ड को एन्क्रिप्ट करने का सबसे बड़ा नुक्सान है की अगर आप अपना पासवर्ड भूल गए। तो आपका डाटा तो गया।

मेमोरी कार्ड को एन्क्रिप्ट करने का एक और बड़ा नुक्सान है की आपको अपने मेमोरी कार्ड को डिक्रिप्ट करने के लिए मेमोरी कार्ड कोई उसी फ़ोन में डालकर डिक्रिप्ट करना होगा।

इसमें रिकवरी का और कोई दूसरा तरीका नहीं है।

व्हाट्सप्प एन्ड टू एन्ड एन्क्रिप्शन के नुक्सान

व्हाट्सप्प के एन्ड टू एन्ड एन्क्रिप्शन का सबसे बड़ा नुक्सान भी इसकी प्राइवेसी ही है क्योकि इससे नागरिक की तो सुरक्षा होती है लेकिन इससे देश को खतरा हो सकता है क्योकि व्हाट्सप्प का इस्तेमाल करके आतंकवादी आपस में एक दूसरे को सन्देश पहुँचा सकते है और इसे कोई भी रोक नहीं लगा सकता है। कोई भी उन मैसेज को पढ़ नहीं सकता है। न सरकार और न खुद व्हाट्सप्प कंपनी।

Encryption का इस्तेमाल कहाँ कहाँ होता है?

बैंकिंग

बैंकिंग में एन्क्रिप्शन का इस्तेमाल सबसे ज्यादा होता है क्योकि यहाँ पर हर रोज़ करोड़ो की ट्रांसेक्शन होती है और हैकर का पूरा ध्यान यही लगा रहता है की कोई एक छोटे से छोटा लूपहोल मिल जाए। इसलिए बैंकिंग में एन्क्रिप्शन का सबसे ज्यादा इस्तेमाल होता है।

एप्लीकेशन

एप्लीकेशन में भी एन्क्रिप्शन का इस्तेमाल होता है क्योकि एप्लीकेशन को आज एंड्राइड फ़ोन में सबसे ज्यादा इस्तेमाल किया जाता है।

वेबसाइट

वेबसाइट में एन्क्रिप्शन काफी समय से इस्तेमाल हो रहा है आप जब गूगल में कोई वेबसाइट को खोलते है तो आपने देखा होगा की एक http वेबसाइट होती है और एक https वेबसाइट होती है। http वेबसाइट पर not secure लिखा होता है जब की https वेबसाइट में secure लिखा होता है और एक हरे रंग का लॉक बना होता है।

Encryption meaning in hindi

यह http वेबसइट वो होती है जिस पर ssl सर्टिफिकेट नहीं लगा होता है और https वेबसाइट वह होती है जिस एसएसएल सर्टिफिकेट लगा होता है। एसएसएल वेबसाइट और ब्राउज़र के बीच में जो डाटा ट्रांसफर होता है यह उसे एन्क्रिप्ट कर देता है। जिससे हैकर यूज़र की कोई निजी जानकारी को न चुरा सके।

गूगल ने भी आधिकारिक रूप में कहाँ है की वह https वेबसाइट को प्राथमिकता देता है। अगर आपने हमारी वेबसाइट की और गौर किया हो तो हमारी वेबसाइट https है और हमारी वेबसाइट पर एसएसएल सर्टिफिकेट लगा है।

तो यहाँ पर आपका डाटा बिलकुल सेफ है। मैं आपको यही सलहा दूंगा की सिर्फ और सिर्फ https वाली वेबसाइट को ही विजिट किया करे।

ऑनलाइन पेमेंट

ऑनलाइन पेमेंट साइट पर और ईकॉमर्स साइट में भी एन्क्रिप्शन का खूब इस्तेमाल किया जाता है यहाँ पर भी आप वेबसाइट https secure ही मिलती है.

चेतावनी : किसी भी http वेबसाइट में किसी भी प्रकार की कोई ऑनलाइन पेमेंट कभी भी न करे। इससे आपका डाटा हैकर तक बड़ी आसानी से पहुँच सकता है जैसे ही आप अपने कार्ड की डिटेल्स या नेट बैंकिंग का पासवर्ड डालेंगे वैसे ही आपकी सारी डिटेल्स हैकर के सर्वर में सेव हो जायगी जिससे वह आपका बैंक अकाउंट कोई बड़े ही आसानी से साफ़ कर सकता है। हमेशा https secure साइट में ही पेमेंट करे।

मुझे उम्मीद है की आप Encryption meaning in hindi में समझ गए होंगे। और एन्क्रिप्शन क्या होता है और कैसे काम करता है और इसके फायदे नुक्सान भी समझ गए होंगे। अगर आपका कोई सवाल या सुझाव हो तो आप हमे निचे कमेंट करके बता सकते है।

यह भी पढ़े

IVRS क्या होता है? IVRS की Full Form क्या होती है?

Spam क्या होता है कैसे होता है और इससे कैसे बचे

Bios क्या होता है Bios की Full Form क्या होती है

Virus क्या होता है Virus की Full Form क्या होती है इन्हे कंप्यूटर से कैसे निकाले

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *