CEO Full Form क्या होती है? CEO क्या होता है?

CEO Full Form क्या होती है? या CEO की Full Form हिंदी में क्या होती है? CEO क्या होता है? CEO का काम क्या होता है? क्या आपके दिमाग में भी ऐसे ही सवाल आते है? अगर हाँ, तो आज आपके सभी सवालों का जवाब मिल जाएगा।

इस आर्टिकल में मैं आपको बताऊंगा की CEO Full Form क्या होती है? CEO Full Form In Hindi क्या होती है? CEO क्या होता है? CEO का काम क्या होता है? CEO की सैलरी कितनी होती है? इसके साथ आपको यह भी बताऊंगा की CEO कैसे बनते है? तो इस आर्टिकल को बिना एक भी शब्द छोड़े पूरा पढ़े।

CEO Full Form क्या होती है?

CEO Full Form “Chief executive officer” होती है। सीईओ किसी भी कंपनी में वह व्यक्ति होता है, जिसके पास संबंधित हितधारकों के लिए धन जुटाने, सामान्य उद्देश्यों को प्राप्त करने की दिशा में रणनीतिक फैसले लेने, योजना बनाने और संगठन का नेतृत्व करने की जिम्मेदारी होती है।

CEO Full Form In Hindi

CEO Full Form In Hindi “मुख्य कार्यकारी अधिकारी” होती है। अपने नाम की ही तरह यह किसी भी कंपनी में मुख्य कार्यकारी अधिकारी होता है। किसी भी कंपनी में यह सबसे उच्च पद होता है।

CEO क्या होता है?

CEO किसी भी संगठन में सबसे वरिष्ठ कॉर्पोरेट अधिकारी या प्रशासक होता है जो कुल मिलाकर पूरी कंपनी के  प्रबंधन और प्रशासन को देखता है। किसी कंपनी या कॉर्पोरेट का सीईओ सीधे अध्यक्ष (Chairman) या निदेशक मंडल (Board of Directors) को रिपोर्ट करता हैं।

CEO यह शब्द उस व्यक्ति को संदर्भित करता है जो कंपनी के संबंध में सभी प्रमुख फैसले लेता है, जिसमें व्यवसाय के सभी क्षेत्र शामिल हैं, जिसमें संचालन, मार्केटिंग, व्यवसाय विकास, वित्त, मानव संसाधन, आदि शामिल हैं।

एक कंपनी का CEO कंपनी का मालिक नहीं होता हैं लेकिन हाँ, एक सीईओ उस कंपनी के मालिक की ओर से पूरी कंपनी को संभालता है।

CEO का काम क्या होता है?

एक संगठन के CEO की जिम्मेदारियां कंपनी के निदेशक मंडल (Board of Directors) या अन्य प्राधिकरण द्वारा निर्धारित की जाती हैं, जो कंपनी के कानूनी ढांचे पर निर्भर करता है। कंपनी के एक नेता के रूप में, CEO निदेशक मंडल को सलाह देता है, कर्मचारियों को प्रेरित करता है, और कंपनी के भीतर परिवर्तन करता है।

ceo full form

एक प्रबंधक के रूप में, CEO कंपनी के दैनिक संचालन की अध्यक्षता करता है।

  • Makes major corporate decisions – सीईओ बड़े-बड़े कॉर्पोरेट निर्णय लेता है। किसी भी कंपनी में सीईओ ही होता है जो बड़े बड़े फैसले लेता है। यह फैसले कंपनी के विकास के लिए लिए जाते है।
  • Makes the healthy working environment – सीईओ एक अच्छे काम का वातावरण बनाता है। सीईओ कंपनी में एक अच्छा वातावरण बनाता है जिससे कंपनी के कर्मचारी ठीक से काम कर सके।
  • Motivates the employees of the organization – सीईओ संगठन के कर्मचारियों को प्रेरित करता है। सीईओ समय समय पर कंपनी के कर्मचारियों को प्रेरित करता रहता है जिससे कंपनी के कर्मचारी मन लगा कर काम करे और किसी भी मुश्किल हालात में उनका होंसला न टूटे। क्योकि कोई भी कंपनी उनके कर्मचारी की मेहनत से ही आगे बढ़ती है।
  • Makes change in policies and strategy – सीईओ नीतियों और रणनीति में परिवर्तन करता है। सीईओ कंपनी में समय समय पर बदलाव करता रहता है सीईओ कंपनी अच्छी तरह से विश्लेषण करता है और फिर उसके अनुसार नीतियों में बदलाव करता है।
  • Leads all the operations of the organization – सीईओ संगठन के सभी कार्यों का संचालन करता है। सीईओ कंपनी में सभी कार्यो का संचालन करता है। हालाँकि हर विभाग के लिए एक अधिकारी होता है लेकिन सीईओ इन अधिकारियो के द्वारा संचालन करता है।
  • Assigns responsibilities to its sub-ordinates – सीईओ अपने मातहतों (कप्तान के नीचे) को जिम्मेदारियां सौंपता है। सीईओ कंपनी के सभी बड़े अधिकारिओ को उनकी जिम्मेदारी सौपता है और उनसे समय समय पर रिपोट भी लेता है।
  • Oversees fundraising planning and execution – सीईओ धन जुटाने योजना बनाने और उसे अंजाम देने का काम करता है। किसी भी कंपनी के लिए धन सबसे जरुरी होता है और सीईओ कंपनी के लिए धन इकठा करने के लिए योजना भी बनाता है।
  • Assists in the selection of board members – सीईओ बोर्ड के सदस्यों के चयन में सहायता करता है। सीईओ कंपनी के बोर्ड में सदस्यों का भी चयन करने में मदद करता है।
  • Oversees the production, marketing, promotion, delivery and quality of products and services – सीईओ सेवाओं, प्रोडक्शन, मार्केटिंग, प्रमोशन, डिलीवरी और उत्पाद की गुणवक्ता की देखरेख करता है। सीईओ सभी चीज़ पर नज़र रखता है की वो कंपनी की निति के अनुसार ही हो रही है की नही।
  • Recommends annual budget and wisely manages resources of the organization – सीईओ वार्षिक बजट की सिफारिश करता है और बुद्धिमानी के साथ संगठन के संसाधनों का प्रबंधन करता है।
  • Assures the products or services of the organization are in line with the vision and mission of the organization – सीईओ संगठन के उत्पादों या सेवाओं का आश्वासन देता है जो संगठन के विजन और मिशन के अनुरूप हैं।

नोट: कुछ कंपनियों में, सीईओ की समान स्थिति को MD (Managing Director) या ED (Executive Director) कहा जाता है। विशेष रूप से MD का उपयोग ब्रिटिश अंग्रेजी में किया जाता है और अमेरिकी अंग्रेजी में सीईओ का इस्तेमाल किया जाता है।

CEO की सैलरी कितनी होती है?

Chief Executive Officers का औसत वेतन लगातार बढ रहा हैं। यह देखा गया है कि पिछले 10 वर्षों में वर्ष 2018 में फॉर्च्यून 500 कंपनियों के सीईओ का औसत वेतन $ 0.5 मिलियन से अधिक बढ़कर $ 14.5 मिलियन हो गया है। अन्य मामलों में कर्मियों का वेतन में वर्ष 2018 में $ 800 प्रति वर्ष और वार्षिक आय 39,950 डॉलर की वृद्धि देखी है।

500 कंपनियों के मुख्य कार्यकारी अधिकारी का औसत वेतन कॉर्पोरेट गवर्नेंस के लिए स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी के रॉक स्कूल द्वारा किए गए सर्वे के अनुसार $ 10.5 मिलियन है। इसके साथ औसत सीईओ का वेतन उद्योग, स्थान, अनुभव और उस के नियोक्ता पर निर्भर करता है जिसके साथ वह काम कर रहा है।

यूनाइटेड स्टेट्स ब्यूरो ऑफ लेबर स्टैटिस्टिक्स के अनुसार संयुक्त राज्य भर में सीईओ के औसत वेतन कुछ इस प्रकार हैं:

वार्षिक मेडियन वेतन $ 186,600 है।

वार्षिक शीर्ष 10% वेतन: $ 208,000 है।

वार्षिक निचला 10% वेतन: 68,360 है।

भारत में किसी कंपनी के सीईओ की सैलरी 3,057,661 रूपये करीब होती है। बाकी यह उस कंपनी, देश, सीईओ के अनुभव और निर्देश मंडल पर निर्भर करता है कि सीईओ की सैलरी कितनी होगी।

CEO कैसे बने?

मुझे यकीन है कि आप भी यही सोचते होंगे कि CEO कैसे बने या फिर CEO बनने के लिए शैक्षिक योग्यता क्या होनी चाहिए। तो मैं आपको बता दू कि एक संगठन के CEO बनने के लिए किसी खास किस्म की शैक्षिक योग्यता नहीं चाहिए होती है। यह एक सर्वोच्च पद है और एक संगठन के निदेशक मंडल द्वारा नियुक्त किया जाता है, लेकिन यह देखा जाता है कि अधिकांश सीईओ के पास MDA या कोई तकनीकी डिग्री होती है।

इसके अलावा निदेशक मंडल किसी ऐसे शख्स कोई सीईओ बनाने के लिए चुनता है जो विश्वास के लायक हो जिसकी छवि साफ़ हो और पूरी कंपनी को संभालने के लिए उसमें काबिलियत हो। CEO बनने के लिए बहुत मेहनत, उस खास क्षेत्र में अनुभव, और व्यवसाय नेटवर्किंग की आवश्यकता होती है।

सीईओ कंपनी का सबसे महत्वपूर्ण पद है, इसलिए सावधानी के साथ CEO का भी चयन किया जाता है ताकि कोई भी गलत व्यक्ति कंपनी का CEO न बन सके। निदेशक मंडल सीईओ का चयन करते समय विशेष ध्यान देता है क्योंकि एक लापरवाह व्यक्ति कि वजह से कंपनी के विकास पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है।नए व्यक्ति को कंपनी के सीईओ के रूप में नहीं चुना जाता है। कुशल और योग्य व्यक्ति को सीईओ बनाया जाता है।

अगर आप सीईओ बनना चाहते है तो आपके पास MBA, MDA या किसी भी टेक्निकल क्षेत्र कि डिग्री होनी चाहिए। इसके अलावा आपको उस कंपनी में एक कर्मचारी बनकर काम करना पड़ेगा और अपनी काबिलियत को कंपनी को दिखाना होगा। जैसे जैसे आपका आपका उस कंपनी में अनुभव बढ़ता जाएगा और आप उच्च पद पर आने लगेंगे वैसे वैसे आप सीईओ के लिए योग्य बनते जाएंगे।

सीईओ बनने के लिए सिर्फ डिग्री, मेहनत, अनुभव ही कि जरुरत नहीं होती है। कई बार लोग किस्मत से भी सीईओ बन जाते है।

निष्कर्ष

मैं उम्मीद करता हूँ कि आपको CEO Full Form क्या होती है और CEO क्या होता है? अच्छी तरह से समझ आ गया होगा। इसके अलावा CEO के बारे में हमारे द्वारा दी गई जानकारी अच्छी लगी होगी। अगर फिर भी आपका CEO से सम्बंधित कोई सवाल हो तो आप हमे निचे कमेंट करके पूछ सकते है।

यह भी पढ़े

SAP Full Form क्या होती है?

HP Full Form क्या होती है? HP क्या है?

IBM Full Form क्या होती है? IBM क्या है?

HCL Full Form क्या होती है? HCL क्या है?

Leave a comment

Content Protected
4 Shares
Tweet
Pin1
Share3
Share