Bios Full Form क्या होती है? Bios क्या होता है?

कंप्यूटर तो आप सभी चलाते है लेकिन क्या आपको पता है की bios क्या होता है या bios full form क्या होती है? या बायोस काम कैसे करता है? अगर नहीं तो आज इस आर्टिकल को शुरू से अंत तक पूरा पढ़े और आपको bios के बारे में तमाम जानकारी इस आर्टिकल में मिल जाएगी।

इस आर्टिकल में मैं आपको सबसे पहले बताऊंगा की bios full form क्या होती है? बायोस होता क्या है? बायोस का काम क्या होता है और बायोस काम कैसे करता है? बायोस कंप्यूटर में कहाँ होता है? और आप बायोस को कैसे access कर सकते है। यह सारी जानकारी मैं आपको एक एक करके दूंगा।

Bios Full Form क्या होती है?

Bios की full form होती है Basic Input Output System Bios का main काम होता है कंप्यूटर को boot करना यानी कंप्यूटर start करना।

Bios Full Form In Hindi

बायोस यानी Basic Input Output System को हिंदी में “आधार निवेश निर्गम तंत्र” कहते है।

Bios क्या होता है?

बायोस एक तरह का software या firmware होता है। बायोस कंप्यूटर का एक मुख्य सॉफ्टवेयर होता है। बायोस पहला सॉफ्टवेयर होता है जो कंप्यूटर में run होता है। बायोस अपने आप चलने वाला सॉफ्टवेयर है जो कंप्यूटर स्टार्ट होते ही चलने लगता है।

बायोस कंप्यूटर को boot करने में मदद करता है। कंप्यूटर को boot करने के बाद बायोस का काम खत्म हो जाता है। इसके बाद बायोस दुबारा तब काम में आता है जब आप अपने computer को start करते है।

Bios को मदरबोर्ड बनते समय ही फैक्ट्री में स्टोर किया जाता है वैसे तो आप इसके साथ को छेड़ छाड़ नहीं कर सकते है लेकिन आप बायोस को अपडेट जरूर कर सकते है।

bios full form

Bios कैसे काम करता है?

Bios आपके कंप्यूटर या लैपटॉप को शुरू करने में मदद करता है जब आप अपने कंप्यूटर को ऑन करते है तो Bios यह सुनिश्चित करता है की आपके कंप्यूटर में लगे सभी हार्डवेयर डिवाइस जैसे Hard disk, Ram, Processor,Keyboard, Mouse, Printer, Scanner आदि सही से काम कर रहे है या नहीं। जब Bios देख लेता है की हां सब सही से काम कर रहा है इसके बाद फिर प्रोसेसर का काम शुरू होता है।

इसके अलावा Bios आपके कंप्यूटर को यह भी बताता है की कौन सा इनपुट डिवाइस है और कौन सा आउटपुट डिवाइस है। इनपुट डिवाइस जैसे Ram, Processor, Graphic Card, SMPS आदि। आउटपुट डिवाइस जैसे Keyboard, Mouse, Printer, Scanner आदि।

कंप्यूटर में Bios के मुख्य कार्य

कंप्यूटर में Bios के मुख्यरूप से 4 कार्य होते है जो निम्नलिखित है।

POST

Power On Self Test करना। जैसा मैंने आपको पहले ही बताया था की जब आप कंप्यूटर ऑन करते हो तो Bios सबसे पहले यह चेक करता है की कंप्यूटर से जुड़े सभी हार्डवेयर डिवाइस ठीक से काम कर रहे है या नहीं।

SETUP

Post के दौरान यह मदरबोर्ड और चिपसेट को configure करता है।

BIOS

Bios आपके ऑपरेटिंग सिस्टम और आपके हार्डवेयर के बीच एक ब्रिज की तरह काम करता है।

BOOTSTRAP LOADER

ऑपरेटिंग सिस्टम लोड करने के लिए हार्ड डिस्क बूट सेक्टर को Read करता है। यह एक तरह का प्रोग्राम होता है जो की कंप्यूटर के EPROM मे स्‍टोर होता है जो कि कंप्यूटर चालू होने पर प्रोसेसर द्वारा स्वचालित रूप से निष्पादित होता है।

कंप्यूटर के मुख्य मेमोरी RAM मे फ्लॉपी डिस्क या हार्ड डिस्क से ऑपरेटिंग सिस्टम लोड करना इस प्रोग्राम का काम होता है की जब तक कि बूट प्रक्रिया पूरी न हो जाये तो ऑपरेटिंग सिस्टम को मुख्य मेमोरी RAM मे कॉपी किया जाता है तब तक उपयोगकर्ता कंप्यूटर का उपयोग नही कर सकता।

Bios कहा होता है?

Bios मदरबोर्ड में लगी EEPROM (Electrically Erasable Programmable Read Only Memory) चिप में स्टोर होता है। यह एक Non Volatile Rom है मतलब आप Bios को री अपडेट या रीराइट कर सकते है।

Bios की सभी सेटिंग CMOS (Complementary metal oxide semiconductor) चिप में स्टोर होती है। और इस CMOS चिप को CMOS बैटरी पावर मुहैया कराती है।

Cmos बैटरी डाटा स्टोर नहीं करती है। डाटा स्टोर तो cmos चिप करती है लेकिन cmos बैटरी यह सुनिश्चित करती है कि कंप्यूटर बंद होने पर भी cmos चिप को पावर मिलती रहे। इसलिए आपने देखा होगा, जब आपका कंप्यूटर बंद भी हो जाता है तब भी कंप्यूटर की डेट और टाइम नहीं बदलता है क्योकि cmos बैटरी का मुख्य काम यही है की जब कंप्यूटर बंद हो तब भी cmos चिप को cmos बैटरी पावर सप्लाई करती रहे।

कंप्यूटर में Bios कैसे Access करे?

अब आपको यह तो पता चला गया कि Bios क्या होता है Bios की फुल क्या होती है और Bios काम कैसे करता है। अब मैं आपको बताऊंगा की Bios को अपने कंप्यूटर में आप कैसे ओपन कर सकते है।

Bios को अपने कंप्यूटर में खोलें के लिए आपको सबसे पहले यह देखना होगा की आपके पास कोनसा कंप्यूटर है क्योकि हर कंप्यूटर या लैपटॉप में Bios को खोलने के लिए अलग अलग keys प्रयोग में लगयी जाती है जैसे :-

CompanyKeys
AcerF2
HPF10
DellF2
LenovoF1, F2
SonyF1, F2, F3
SamsungF2

आपके पास जिस भी कंपनी का कंप्यूटर या लैपटॉप है आपको उसके लिए ऊपर दी गयी keys को press करना है। ध्यान रहे, जब आप कंप्यूटर ऑन करते है तो कंप्यूटर में लोगो आने से पहले आपको यह key दबाते रहना है जब तक की Bios ओपन नहीं हो जाता है। इसके अलावा कई कंप्यूटर के Bios Esc और Del से भी खुल जाते है। अगर यह के key काम न करे तो आप वह आजमा सकते है।

बायोस को अपडेट कैसे करे?

अगर आपको नहीं पता है की बायोस को अपडेट क्यों करते है तो मैं आपको बता दूँ की बायोस को अपडेट करने से आप पुराने मदरबोर्ड में नए CPU को लगा सकते है जैसे अगर आपके पास एक 6th जेनरेशन का मदरबोर्ड और 7th जेनरेशन का प्रोसेसर है तो आप बायोस को अपडेट करके 6th जेनरेशन के मदरबोर्ड में 7th जेनरेशन के प्रोसेसर को चला सकते है।

बायोस अपडेट दो तरीको से होता है एक तो विंडो के द्वारा आप bios को अपडेट कर सकते है लेकिन इसके लिए आपको कंप्यूटर में विंडो होनी चाहिए। इसके अलावा दूसरा तरीका है पेनड्राइव में बायोस की फाइल को डालकर आप bios को boot करके बायोस को अपडेट कर सकते है।

आज मैं आपको दोनों तरीके एक एक करके बताऊंगा।

अगर आपके कंप्यूटर में विंडो नहीं है और आप bios को अपडेट करना चाहते है तो आप दूसरे वाले तरीके से ही बायोस को अपडेट करे।

विंडो के द्वारा बायोस अपडेट करे – सबसे पहले आपको जिस भी कंपनी का आपका motherboard है उस कंपनी की ऑफिशल वेबसाइट में जाना है और वहाँ से अपने मदरबोर्ड का लेटेस्ट बायोस डाउनलोड करना है। इसके बाद आपको अपने बायोस की ऑफिशल यूटिलिटी चलानी है और वहाँ आपको अपडेट का ऑप्शन मिलेगा। वहाँ से आप आपने सेटअप को run करने बायोस को अपडेट कर सकते है।

डायरेक्ट बायोस अपडेट करे – इसके लिए आपको एक पेनड्राइव और उसमें बायोस का सेटअप चाहिए जो आपने डाउनलोड किया था। ध्यान रहे अगर सेटअप zip फाइल में हुआ तो आप उसे पहले ही extract कर ले। इसके बाद आपको कंप्यूटर को रीस्टार्ट करके बायोस को खोलना है और फिर एडवांस ऑप्शन में जाकर बायोस को अपडेट करना है।

सावधानी – बायोस को अपडेट करने से पहले आपको कुछ बाते ध्यान में रखनी है जैसे अगर आपके पास एक कंप्यूटर है और उस कंप्यूटर में UPS नहीं है तो मैं आपको यही सलहा दूंगा की आप बाहर किसी शॉप से ही बायोस को अपडेट करवाए क्योकि अगर bios अपडेट करते समय बिजली चली गयी तो आपका मदरबोर्ड खत्म यानी died हो जाएगा। अगर आपके पास लैपटॉप है तो बायोस को अपडेट करने से पहले अपने लैपटॉप को पूरा चार्ज रखे।

निष्कर्ष

मुझे उम्मीद है की आपको bios full form और बायोस के बारे में सारी जानकारी अच्छी लगी होगी। अगर फिर भी आपका कोई सवाल या सुझाव हो तो आप हमे निचे कमेंट करके पूछ सकते है।

यह भी पढ़े

WiFi Full Form क्या होती है? WiFi क्या होता है?

Spam क्या होता है कैसे होता है और इससे कैसे बचे

Encryption क्या होता है Encryption कैसे काम करता है

DP का फुल फॉर्म क्या होता है? DP Ka Full Form Kya Hota Ha? Dp Full Form

Virus Full Form क्या होती है? Virus क्या होता है? वायरस की सारी जानकारी

Authored By Prabhat Sharma
Howdy Guys, I am Prabhat, a full time blogger. I am the founder of the Hindi Tech Review. I love to share articles about technology on the Internet.

Leave a comment